6 बार पुर्तगाली सेना को हराया, देशहित में पति को ठुकराया, सनी लियोन क्या करेगी उनका रोल - धर्म संसद
veeramadevi
Image Courtesy: m.dailyhunt.in

6 बार पुर्तगाली सेना को हराया, देशहित में पति को ठुकराया, सनी लियोन क्या करेगी उनका रोल

Spread the love
  • 166
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    167
    Shares

वीरमादेवी (रानी अब्बक्का) पर 100 करोड़ रुपये के बजट की फिल्म बन रही है। वीरमादेवी ने देशहित में अपने पति को छोड़ दिया था। पुर्तगाली सेना ने छह बार उनके राज्य तुलूनाडु और उनके राज्य के बंदरगाह शहर उल्लाल पर कब्जा करने की कोशिश की, पर हर बार वीरमादेवी के नेतृत्व में उनकी छोटी सी सेना ने पुर्तगालियों को काट कर रख दिया।

पोर्न स्टार सनी लियोन से वीरमादेवी का रोल कराने का हो रहा जमकर विरोध

1525 ईस्वी में वीरमादेवी कर्नाटक के मैंगलुरु (तब उल्लाल) की शासक थीं। वह भारत की प्रथम स्वतंत्रता सेनानी थीं। इस महान वीरांगना का रोल इस फिल्म में पोर्न स्टार सन्नी लियोन निभा रही हैं। वीरमादेवी फिल्म का पोस्टर भी रिलीज हो गया है। फिल्म के पोस्टर में सन्नी लियोन वीरमादेवी के रूप में अपनी सेना के आगे हाथों में तलवार लिए घोड़े पर बैठी दिख रही हैं। सन्नी लियोन से वीरमादेवी का रोल कराए जाने का जमकर विरोध हो रहा है। कर्नाटक में फिल्म के पोस्टर जलाए जा रहे हैं और विरोध-प्रदर्शन किया जा रहा है।

वीरमादेवी ने देशहित में पति को छोड़ दिया था

वीरमादेवी कर्नाटक की लोकगाथाओं में बसती हैं। उन्होंने जान दे दी पर पुर्तगालियों की पराधीनता स्वीकार नहीं की। वीरमादेवी (रानी अब्बक्का) के पड़ोसी राजा और उनके पति लक्ष्मप्पा अरसा ने पुर्तगालियों से हाथ मिला लिया। भारत का तो जयचंद से लेकर आजतक का इतिहास रहा है कि भारत जब भी युद्ध हारा है, अपनों की फूट और गद्दारी की वजह से हारा है।

यह भी पढ़ें: BHU प्रोफेसर डॉ कमलेश का बड़ा रहस्योद्घाटन, बिहार में इस जगह हुआ था समुद्र मंथन

मातृसत्तात्मक था वीरमादेवी का राज्य, बनीं थीं रानी

वीरमादेवी चौटा राजवंश की थी। चौटा राजवंश मातृसत्तात्मक राज्य था। इस नीति के मुताबिक वीरमादेवी (रानी अब्बक्का) अपने राज्य की रानी बनीं। वीरमादेवी के पति लक्ष्मप्पा अरसा का राज्य भी मजबूत था, पर लक्ष्मप्पा को पुर्तगालियों को टैक्स देने और उनका प्रभाव स्वीकार करने में कोई दिक्कत नहीं थी, जबकि वीरमादेवी स्वतंत्रता चाहती थी।

पुर्तगालियों से पूछा था, देश हमारा, तुम्हें टैक्स क्यों दें

उनका कहना था कि इन विदेशियों को हम टैक्स क्यों दें। राजा लक्ष्मप्पा अरसा और वीरमादेवी की राहें अलग-अलग हो गईं और पति-पत्नी का संबंध दुश्मनी में बदल गया। रानी वीरमादेवी ने देशहित में पति को छोड़ दिया और अपने राज्य उल्लाल आ गईं। पुर्तगालियों ने वीरमादेवी को नोटिस भेजा। टैक्स दो या युद्ध करो। हमारा नियंत्रण स्वीकार करो। उल्लाल बंदरगाह हमें दे दो। वीरमादेवी ने पूछा कि देश हमारा। बंदरगाह हमारा। फिर हम तुम्हें टैक्स क्यों दें। इसके बाद पुर्तगालियों ने वीरमादेवी के राज्य पर हमला कर दिया।

veermadevi
Rani Abbakka (Aka Veermadevi), Image Source: hindujagruti.org

अग्निबाण चलाना जानने वाली आखिरी भारतीय योद्धा थीं वीरमादेवी

कहा जाता है कि वीरमादेवी अंतिम भारतीय योद्धा थी जिन्हें अग्णिबाण चलाना आता था। वीरमादेवी अपनी छोटी सेना लेकर पुर्तगाली सेना पर टूट पड़ीं। उन्होंने पुर्तगालियों को काट डाला। पुर्तगाली सेना बुरी तरह हारी। कुल छह बार पुर्तगालियों ने वीरमादेवी के राज्य पर हमला किया और उन्हें हराने की कोशिश की पर हर बार वीरमादेवी की तलवार ने पुर्तगाली सेना को गाजर-मूली की तरह काट कर रख दिया। तब पुर्तगालियों ने वह किया, जिसके कारण भारत हर बार हारता है।

यह भी पढ़ें: गुजराती व्यापारी, बिहारी सिपाही, सीमा पर हम न छाती ताने, तो फिर आएगा गजनी तबाही मचाने

पति ने ही कर दी गद्दारी

पुर्तगालियों ने वीरमादेवी के पति लक्ष्मप्पा को मिला लिया। लक्ष्मप्पा की सेना भी मजबूत सेना थी। इस बार रानी हार गईं। पुर्तगाली सेना उनके किले तक पहुंच गईं। वीरमादेवी अपने घोड़े पर सवार किले से बच निकली। उनकी सेना बिखर चुकी थी, पर वीरमादेवी कहां हार मानने वाली थीं। उन्होंने अपने 200 विश्वस्त सैनिकों को जमा किया और उसी रात किले पर चढ़ाई कर दी। सैनिकों को मार गिराया। वीरमादेवी ने पुर्तगाली जनरल पीइक्सेटो, एडमिरल मसकारएनहस को मार गिराया और फिर से अपने राज्य पर कब्जा कर लिया। 1570 में पुर्तगालियों ने वीरमादेवी के पति लक्ष्मप्पा को पूरी तरह मिला लिया और लक्ष्मप्पा ने वीरमादेवी के साथ विश्वासघात करते हुए पुर्तगाली सेना का साथ दे दिया। इससे पुर्तगाली सेना की ताकत काफी बढ़ गई और इस युद्ध में वीरमादेवी की सेना हार गई।

जेल में डाल दी गईं, पर वहां भी लड़ती हुई शहीद हो गईं वीरमादेवी

पुर्तगालियों ने वीरमादेवी को बंदी बना लिया और उन्हें जेल में डाल दिया, पर वीरमादेवी जेल में भी बगावत का झंडा बुलंद करती रहीं। दूसरे बंदियों के साथ मिलकर उन्होंने जेल में भी बगावत कर दी और लड़ती हुईं शहीद हो गईं। यह वीरमादेवी की कहानी है।

1525 ईस्वी से 1570 के बीच वीरमादेवी ने छह बार पुर्तगाली सेना को हराया, पर अंत में अपने पति की गद्दारी की वजह से हार गईं।

पोर्न स्टार से रोल कराने पर लाजिमी है विरोध

ऐसी महान वीरांगना का रोल पोर्न स्टार सन्नी लियोन से कराने का विरोध होना लाजिमी है। वीरमादेवी कर्नाटक की लोकगाथाओं में बसती हैं, पर यह कितने दुख की बात है कि पूरा देश उन्हें नहीं जानता। उनकी वीरता की कहानियां सिर्फ कर्नाटक तक सीमित हैं। पूरे देश तक उनकी कहानी पहुंचनी चाहिए। उनपर फिल्म भी बननी चाहिए, पर उनका रोल एक पोर्नस्टार से कराकर उनके त्याग और बलिदान का अपमान नहीं करना चाहिए।

यह भी पढ़ें: शहीद सैनिकों को मोक्ष दिलाने गया के फल्गु पहुंचे वामन भगवान, किया पिंडदान

(Visited 680 times, 1 visits today)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *